pragati pari

my world my view my poems

40 Posts

90 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 10910 postid : 28

तंत्र तो है पर गड़ कंहा है????????????

  • SocialTwist Tell-a-Friend

तंत्र तो है पर गड़ कहा है

जीवन बस संघर्ष यहाँ है

गड़ का अर्थ है जनता और गड्तंत्र है जनता का शासन

पर कइसी जनता कौन सी जनता कहा है जनता ?????

भ्रस्टाचार की बेल है फूले फले लहराये

पर ये बेचारा आम आदमी क्यों न कुछ कर पाए

सोयी है या रोई है या सपनो मे खोयी है

जनता की सुबह अभी तक न होई है

किस किस मुद्दे पर बात करू

या यू ही संताप करू

कुछ बदलेगा हा बदलेगा

केसे यह विश्वास धरु

वंशवाद की बेल खिले फूले फले लहराये

पर देखो ये आम आदमी धर्म पे वोट दे आये

कही सम्प्रयदिकता कही जाती कही छेत्र्यवाद की छाया

इन ६७ सालो मे हमने क्या खोया क्या पाया

गति है जो ये राष्ट्र की या कहे इसे हमे दुर्गति

कौन है इसका कारण केसे इसे सुधारन

क्या सिर्फ नेता या अफसर को कोस कोस कर बदलेगा कुछ

शासन और प्रशासन की ही जिम्मेदारी है सब कुछ

इस देश का कुछ नहीं हो सकता यह डायलॉग बहुत सुना है

पर कुछ बदले इसके लिए हमने क्या किया है

शासन प्रशासन को तो हम जी भर के गालिया देते है

पर अपने कर्तव्यों से पीछे ही हटते रहते है

वोट डालते वक़्त जाति धरम चेत्र्य सब याद हमे रह जाते है

भूलते है तो बस राष्ट्र को वन्दे मातरम कहने से कतराते है

इंडिया गेट पे धरना देगे बेटी के लिए आन्दोलन करेगे

पर सदियों से जकड़ी हुई मानसिकता को हम कब बद्लेगे

बदलोगे जो सोच को अपनी सब कुछ बदल जायेगा

आज़ादी का सही मायना समझ तुम्हे फिर आयगा

असली गड्तंत्र तभी होगा जब जनता की नीद टूटेगी

स्वार्थो को परे रखकर राष्ट्र के बारे मे सोचेगी…………………………..

HAPPY REPUBLIC DAY

तंत्र तो है पर गड़ कहा है

जीवन बस संघर्ष यहाँ है

गड़ का अर्थ है जनता और गड्तंत्र है जनता का शासन

पर कइसी जनता कौन सी जनता कहा है जनता ?????

भ्रस्टाचार की बेल है फूले फले लहराये

पर ये बेचारा आम आदमी क्यों न कुछ कर पाए

सोयी है या रोई है या सपनो मे खोयी है

जनता की सुबह अभी तक न होई है

किस किस मुद्दे पर बात करू

या यू ही संताप करू

कुछ बदलेगा हा बदलेगा

केसे यह विश्वास धरु

वंशवाद की बेल खिले फूले फले लहराये

पर देखो ये आम आदमी धर्म पे वोट दे आये

कही सम्प्रयदिकता कही जाती कही छेत्र्यवाद की छाया

इन ६७ सालो मे हमने क्या खोया क्या पाया

गति है जो ये राष्ट्र की या कहे इसे हमे दुर्गति

कौन है इसका कारण केसे इसे सुधारन

क्या सिर्फ नेता या अफसर को कोस कोस कर बदलेगा कुछ

शासन और प्रशासन की ही जिम्मेदारी है सब कुछ

इस देश का कुछ नहीं हो सकता यह डायलॉग बहुत सुना है

पर कुछ बदले इसके लिए हमने क्या किया है

शासन प्रशासन को तो हम जी भर के गालिया देते है

पर अपने कर्तव्यों से पीछे ही हटते रहते है

वोट डालते वक़्त जाति धरम चेत्र्य सब याद हमे रह जाते है

भूलते है तो बस राष्ट्र को वन्दे मातरम कहने से कतराते है

इंडिया गेट पे धरना देगे बेटी के लिए आन्दोलन करेगे

पर सदियों से जकड़ी हुई मानसिकता को हम कब बद्लेगे

बदलोगे जो सोच को अपनी सब कुछ बदल जायेगा

आज़ादी का सही मायना समझ तुम्हे फिर आयगा

असली गड्तंत्र तभी होगा जब जनता की नीद टूटेगी

स्वार्थो को परे रखकर राष्ट्र के बारे मे सोचेगी…………………………..

HAPPY REPUBLIC DAY



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

aman kumar के द्वारा
April 12, 2013

गण का मतलब है जनता का समूह ! आज देश मे समूह है तो जाती , धर्म ,भाषा ,शेत्र ,आमिर गरीब के नाम पर बटे हुए है फिर भी तंत्र है जिसको साध कर सर्कार बनायीं जाती है फिर देश की बात कहा से आती है |……………… अच्छा लगा आपका लेख !

    pragati के द्वारा
    April 12, 2013

    धन्यवाद अमन जी

nishamittal के द्वारा
January 26, 2013

बहुत सारे प्रश्न उठती रचना सही है गण तो खो ही गया है.हम अधिकार की ही मांग करते हैं कर्तव्यों के नाम पर मौन रहता है.

    pragati के द्वारा
    February 1, 2013

    धन्यवाद निशा जी


topic of the week



latest from jagran